कुआलालंपुर। मलेशिया की पुलिस ने सत्तारूढ़ पार्टी के एक पूर्व मंत्री खैरुद्दीन अबु हसन को देश से बाहर जाने से रोक दिया है। खैरुद्दीन के वकील ने शनिवार को यह जानकारी दी। उन्होंने सरकार पर एक व्हिसिल ब्लोअर की आवाज दबाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि खैरुद्दीन, प्रधानमंत्री नजीब रजाक के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार के आरोपों को दुनिया के सामने लाने के लिए न्यूयॉर्क जा रहे थे।

खैरुद्दीन अबु हसन मलेशिया की सरकारी कंपनी के खिलाफ स्विटजरलैंड तथा हांगकांग में पहले ही संदिग्ध भ्रष्टाचार की प्राथमिकी दर्ज करा चुके हैं। इस बार वह कर्ज में डूबी मलेशिया डेवलपमेंट बोर्ड के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराना चाहते थे।

पुलिस ने शुक्रवार को उन्हें न्यूयॉर्क जाने के लिए विमान में सवार होने से पहले ही रोक दिया। उन्हें सोमवार को कुआलालंपुर के पुलिस मुख्यालय में उपस्थित होने को कहा गया है। खैरुद्दीन के वकील मैथिआस चांग ने बताया कि खैरुद्दीन का न्यूयॉर्क में एफबीआइ अधिकारियों से मिलने का कार्यक्रम था।

उनके मुवक्किल पर "संसदीय लोकतंत्र को कमजोर करने" का आरोप लगाया गया है। पुलिस ने न सिर्फ उन्हें यात्रा करने से रोका बल्कि धमकाया भी। हालांकि इस घटनाक्रम पर अभी पुलिस की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

Posted By:

fantasy cricket
fantasy cricket