Sneha Dubey Profile: संयुक्त राष्ट्र महासभा में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कश्मीर पर झूठ बोला। भारत ने राइट की रिप्लाय के अधिकार का इस्तेमाल करते हुए जवाब दिया। भारत ने जवाब देने के लिए जूनियर महिला राजनयिक स्नेहा दुबे को चुना। Sneha Dubey ने बड़े ही प्रभावी तरीके से पाकिस्तान और इमरान खान को आइना दिखाया। उन्होंने कहा, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत के अभिन्न अंग थे, हैं और रहेंगे। इसमें वे क्षेत्र शामिल हैं जो पाकिस्तान के अवैध कब्जे में हैं। हम पाकिस्तान से उसके अवैध कब्जे वाले सभी क्षेत्रों को तुरंत खाली करने का आह्वान करते हैं।

इसके बाद सोशल मीडिया पर #SnehaDubey ट्रेंड करने लगा। लोग इस महिला अधिकारी के बारे में सर्च करने लगे। Sneha Dubey 2012 बेच की महिला अधिकारी हैं। स्नेहा की स्कूली शिक्षा गोवा में हुई है। इसके बाद उन्होंने पुणे से उच्च शिक्षा पूरी की और फिर दिल्ली जेएनयू में स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज से एमफिल किया। यहां जानिए Sneha Dubey के बारे में सबकुछ और नीचे देखिए वीडियो

Sneha Dubey Profile: परिवार में पहली सरकारी नौकरी

स्नेहा अपने परिवार की पहली हैं जो सरकारी सेवा में हैं। उनके पिता एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करते हैं, मां स्कूल में पढ़ाती हैं, जबकि भाई बिजनेस करता है। 2011 में स्नेहा ने पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी थी और पहले ही प्रयास में चुन ली गई थीं। विदेश सेवा के लिए चुने जाने के बाद स्नेहा दुबे की पहली नियुक्ति विदेश मंत्रालय में हुई। फिर अगस्त 2014 में उन्हें भारतीय दूतावास मैड्रिड भेज दिया गया। अभी स्नेहा संयुक्त राष्ट्र में फर्स्ट सेक्रेटरी हैं।

यह पहली बार नहीं है जब भारत ने पाकिस्तान को जवाब देने के लिए यूनियर महिला अधिकारियों को मैदान में उतारा हो। इससे पहले एनम गंभीर और विदिशा मैत्रा यह भूमिका निभा चुकी हैं।

स्नेहा का वीडिया सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर लोग उनकी तारीफ कर रहे हैं। अधिकांश यूजर्स का कहना है कि स्नेहा ने बहुत कम उम्र और कम अनुभव होने के बाद भी पाकिस्तान को बड़ी सटिकता से जवाब दिया। एक यूजर ने लिखा, #भारतीय #नारी_शक्ति...#संयुक्त_राष्ट्र में #भारत की प्रथम सचिव, स्नेहा दुबे, ने #पाक पीएम #इमरान के 'रिकॉर्ड' भाषण का जवाब दिया....

यहां भी क्लिक करें: इमरान खान ने कश्मीर पर बोला झूठ, जूनियर भारतीय राजनयिक ने सुना दी खरी-खरी, देखिए वीडियो

Image

Image

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close