बालाघाट (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बालाघाट रेलवे स्टेशन से ट्रेन गुजरने के दौरान सरेखा रेलवे फाटक, बैहर रेलवे फाटक, भटेरा रेलवे फाटक व गर्रा रेलवे फाटक पर जाम से जनता को परेशान होना पड़ता है। कारण किसी भी रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज न होने और जाम से बचकर निकलने के लिए अतिरिक्त मार्ग नहीं है। ऐसे में सिर्फ मालगाड़ी के गुजरने के दौरान ही लंबा जाम लग जाता है। वहीं अब मंगलवार से रेलवे प्रबंधन पैंसेजर ट्रेन भी शुरु कर रहा है। जिससे जाम की यह स्थिति और भी गंभीर हो जाएगी।

जाम से बचने उठाया जान का जोखिमः सोमवार की दोपहर करीब 12 बजे बालाघाट रेलवे स्टेशन से नैनपुर के तरफ मालगाड़ी को रवाना करने के लिए बैहर रेलवे चौकी फाटक ट्रेन गुजरने के करीब पांच से दस मिनट पहले ही बंद कर दिया गया। ऐसे में फाटक के दोनों तरफ वाहनों की लंबी लाइन लग गई। वहीं जाम में फंसकर परेशान होने से बचने की गरज से दोपहिया वाहन के चालक जान को जोखिम में डालकर फाटक के नीचे से अपने वाहन निकालते नजर आए। वहीं मालगाड़ी फाटक से गुजरने की स्थिति में भी लोग फाटक के नीचे से वाहन निकालते नजर आए।

रोजाना की ये स्थिति अब होगी गंभीरः मंगलवार से बालाघाट-कटंगी-गोंदिया पैंसेजर ट्रेन शुरु हो रही है। जिसके बाद बुधवार से ये ट्रेन डबल फेरा रोजाना करेगी। ऐसे में सरेखा रेलवे फाटक, बैहर चौकी, भटेरा चौकी, बूढी रेलवे फाटक, गर्रा रेलवे फाटक बंद होगा। जिससे इन स्थानों पर जाम की स्थिति निर्मित होगी। बता दें कि जिले के सरेखा रेलवे फाटक, बैहर रेलवे फाटक व गर्रा रेलवे फाटक पर ओवरब्रिज निर्माण की स्वीकृति को बजट में तो शामिल कर लिया गया है, लेकिन निर्माण कार्य शुरु नहीं हो पाया है। ऐसे में मालगाड़ी व पैसेंजर ट्रेन के आवागमन के दौरान लोगों को जाम की समस्या से दो चार होना पड़ेगा।

बायपास और रिंगरोड निर्माण की मांगः जिले में समय के साथ जनसंख्या में लगातार वृद्धि हो रही है और आवागमन के लिए शहरी क्षेत्र के अंदर से होकर ही सड़क मार्ग गुजरता है। जिसमें बालाघाट-गोंदिया-सिवनी मार्ग, बालाघाट-बैहर मार्ग व बालाघाट-लामटा-परसवाड़ा मार्ग शामिल है। इन मार्र्गों पर जाम की स्थिति निर्मित होने की स्थिति में वाहन अन्य स्थान से गुजर सके इसके लिए न तो कोई बायपास का निर्माण हो पाया है और न ही रिंगरोड बनाया गया है। ऐसे में अब पैसेंजर ट्रेन शुरु होने से लोगों को घंटों जाम में फंसकर परेशान होना पड़ेगा।

इनका कहना......

केंद्र व राज्य में भाजपा की सरकार होने के बाद भी जिलेवासियों को जाम की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए ठोस प्रयास नहीं किए गए है। वहीं सांसद भी भाजपा का ही है बावजूद इसके इस ओर ध्यान नहीं दिया गया है। कोरोना संकट के बाद एक बार फिर से ट्रेनों का आगवामन शुरु हो रहा है। इससे लोगों को काफी परेशान होना पड़ेगा। राहगीर, रहवासियों के परेशान होने के साथ ही ट्रांसपोर्ट, स्वास्थ्य सेवाएं समेत अन्य सुविधाएं भी घंटों जाम के चलते प्रभावित होगी।मालगाड़ी के गुजरने के दौरान ही करीब एक घंटे तक जाम की स्थिति निर्मित होती है और अब पैसेंजर ट्रेनों के संचालन के दौरान दिनभर जाम से लोगों को परेशान होना पड़ेगा।

-राजा सोनी, जिला कार्यवाहक अध्यक्ष, कांग्रेस।

28 सितंबर से सुबह नौ बजे गोंदिया से पैंसेजर ट्रेन बालाघाट पहुंचेगी जो बालाघाट से कटंगी तक जाएगी। वहीं 29 सितंबर से यह ट्रेन अपने दोनो फेरे पूर्ण करेगी। इसके अलावा रीवा-इटारसी, गया चैन्नाई एक्सप्रेस का भी संचालन हो रहा है।

-एचएल कुशवाहा, अधीक्षक, रेलवे स्टेशन बालाघाट।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local