संत हिरदाराम नगर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। संत हिरदाराम नगर रेलवे स्टेशन पर यात्री ट्रेनों का स्टापेज लगातार बढ़ रहा है, लेकिन इस मान से सुविधाएं नहीं हैंं। स्टेशन पर यात्री प्रतीक्षालय जर्जर हो चुका है। 40 साल से अधिक पुराने प्रतीक्षालय में बैठने तक की उचित व्यवस्था नहीं है। रेल सुविधा संघर्ष समिति ने बार-बार आग्रह के बाद भी नए प्रतीक्षालय का निर्माण नहीं होने पर नाराजगी प्रकट की है।

रतलाम रेल मंडल ने नए यात्री प्रतीक्षालय के निर्माण का प्रस्ताव सन 2013 में बनाया था। उस समय स्टेशन का नाम बैरागढ़ था। बाद में स्टेशन का नाम संत हिरदाराम नगर हो गया। रेलवे ने इसे पश्चिम रेल मंडल से हटाकर भोपाल मंडल में शामिल कर दिया। मंडल में बदलाव के साथ ही विकास के कई प्रस्ताव अटक गए। कोरोना काल से पहले रेल सुविधा संघर्ष समिति ने कुछ ट्रेनों के साथ स्टापेज के साथ ही नए यात्री प्रतीक्षालय का निर्माण करने की मांग को लेकर डीआरएम से मुलाकात की थी। कोरोना काल में रेल यातायात बंद कर दिया गया था, इसलिए यह प्रस्ताव भी अटक गया। समिति के अध्यक्ष परसराम आसनानी का कहना है कि अब रेल यातायात सामान्य हो चुका है इसलिए प्रतीक्षालय का निर्माण जल्द शुरू होना चाहिए।

सुविधाएं नहीं, अंदर ही नहीं जाते यात्री

स्टेशन पर बना यात्री प्रतीक्षालय जर्जर हो चुका है। इसका निर्माण उस समय हुआ था जब यहां पर दो या तीन ट्रेनों का ही स्टापेज था। वर्तमान में करीब 50 यात्री ट्रेनों का स्टापेज है। प्रतीक्षालय में सुविधाएं नहीं होने के कारण यात्री अंदर ही नहीं जाते। संत हिरदाराम नगर स्टेशन पर करीब आधा दर्जन ट्रेनें मध्य रात्रि तीन से तड़के पांच बजे के बीच पहुंचती हैंं। इन ट्रेनों से उतरने वाले यात्रियों को परेशान होना पड़ता है। संघर्ष समिति के अध्यक्ष परसराम आसनानी ने कहा है कि स्टेशन के विकास के बाकी काम के साथ यात्री प्रतीक्षालय का निर्माण होना भी सबसे जरूरी है। आसनानी का कहना है कि अंडर ब्रिज, फुटओवर ब्रिज का विस्तार एवं यात्री प्रतीक्षालय का निर्माण करने की मांग को लेकर समिति का एक शिष्टमंडल जल्द ही डीआरएम से मुलाकात करेगा।

Posted By: Lalit Katariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local