सेंवढ़ा। डायल 108 इमरजेंसी के लिए तैनात एंबुलेंस है। जब भी कोई अपने नंबर से 108 डायल करता है तो यह फोन सीधे भोपाल मुख्यालय पर पहुंचता है। किस जगह से काल आई है उसके पास की लोकेशन पर तैनात एंबुलेंस को भेजा जाता है। अगर स्थानीय एंबुलेंस व्यस्त होती है तो पास के कस्बे से गाड़ी भेजी जाती है। यह जानकारी डायल 108 के तकनीकि सहायक सत्तेंद्र दैनिक ने सरकारी कन्या छात्रावास में छात्राओं को दी। इस दौरान छात्रावास में मौजूद छात्राओं ने डायल 108 के काम करने के तरीके तथा देरी से आने के कारणों को लेकर कई सवाल पूछे। इनका समाधान एंबुलेंस तकनीकी प्रभारी ने किया।

108 एंबुलेंस की कार्यप्रणाली के बारे में जानकारी देते हुए सतेंद्र दैनिक ने बताया कि बीमार या घायल व्यक्ति की प्राथमिक चिकित्सा के लिए गाड़ी के अंदर संसाधन और तकनीकि अधिकारी तैनात रहता है। किसी भी दुर्घटना अथवा बीमारी की आपातकालीन स्थिति में डायल 108 का सहारा लिया जा सकता है। यह गाड़ी मरीज या घायल को चिकित्सालय तक पहुंचाने के साथ-साथ रेफर होने पर रेफर सेंटर तक पहुंचाने में भी मदद करती है।

फोटो 21 कैप्शन : छात्रावास में जानकारी देते एंबुलेंस प्रभारी।

Posted By: Nai Dunia News Network