इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। टीआइ हाकमसिंह पंवार ने जिस कार को लेकर महिला एएसआइ को गोली मारकर खुद को गोली मारी उस कार को पुलिस ने जब्त कर लिया। टीआइ की यह कार कपड़ा कारोबारी की पत्नी के नाम थी जो बाद में एएसआइ के भाई के नाम पर ट्रांसफर हुई। इस कार में पुलिस को बैंक पासबुक, नोटरी व कुछ दस्तावेज मिले हैं। पुलिस मामले में ब्लैकमेलिंग के एंगल पर जांच कर रही है।

एसीपी (संयोगितागंज) अरविंदसिंह तोमर के मुताबिक गुरुवार दोपहर श्यामला हिल्स (भोपाल) थाने के टीआइ हाकमसिंह पंवार ने इंदौर के पुलिस कंट्रोल रूम की विविध शाखा में पदस्थ महिला एएसआइ(एम) को गोली मारने के बाद खुद को भी गोली से उड़ा लिया था। एएसआइ के कान के पास से गोली निकलने के कारण वह तो बच गई लेकिन टीआइ की मौके पर ही मौत हो गई। विवाद एक कार को लेकर सामने आया है। बताया जाता है कि टीआइ हाकमसिंह के पास एक कार (क्रेटा) थी जो एएसआइ के भाई के नाम पर है। एएसआइ वह कार लौटाने का दबाव बना रही थी। टीआइ विवाद सुलझाने के लिए कार लेकर आए थे। गोली लगने के कारण कार खड़ी रह गई। पुलिस ने उक्त कार को जब्ती में ले लिया। उसकी तलाशी ली तो कुछ कागजात मिले। बताया जाता है कार कपड़ा कारोबारी की पत्नी सीमा के नाम पर थी। बाद में यह कार एएसआइ के भाई के नाम पर ट्रांसफर हुई।

प्यार और ब्लैकमेलिंग की जांच कर रही पुलिस - पुलिस ने शनिवार को भी एएसआइ के कथन लिए। वह सवालों के जवाब टालती रही। उसने टीआइ को पिता तुल्य बताया। कहा कि उनसे वर्ष 2018 में इंदौर पोस्टिंग के दौरान मुलाकात हुई थी। कभी-कभी मिलते थे। कार न देने पर एएसआइ ने शिकायत कर दी थी। पुलिस को शक है कि मामला ब्लैकमेलिंग का है। एएसआइ टीआइ से लाखों रुपये ऐंठ चुकी है। टीआइ की तीसरी पत्नी रेशमा ने भी आरोपों की पुष्टि की है।

Posted By: Hemraj Yadav

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close