सिवनी। पेंच नेशनल पार्क में 27 व 28 नवंबर को आयोजित प्रदेश स्तरीय 'मोगली बाल उत्सव" जिले की ख्याति बढ़ाएगा। 2014 से 2018 तक इसका आयोजन अलग-अलग नेशनल पार्क में किए जाने से यह अपनी पहचान खोता जा रहा था। लेकिन इस बार स्कूल शिक्षा विभाग ने मोगली की जन्मस्थली पेंच नेशनल पार्क में इस आयोजन को कराने का फैसला लिया है।

प्रदेश के 52 जिलों से चयनित मोगली मित्र यहां पहुंचकर जंगल सफारी का मजा लेंगे। विभिन्न् कार्यक्रमों के जरिए छात्रों में पर्यावरण और वन्यजीवों के प्रति प्रेम, जागरूकता, उत्तरदायित्व की भावना जागृत करना मोगली बाल उत्सव का मुख्य उद्देश्य रहेगा।

गत दिवस मोगली मित्रों को चयनित करने के लिए उत्कृष्ट स्कूल में क्विज प्रतियोगिता आयोजित की गई। कनिष्ठ व वरिष्ठ वर्ग में जिले के 8 विकासखंडों से चयनित छात्रों ने क्विज प्रतियोगिता में भाग लिया। सिवनी जिले से 16 तो प्रदेश के अन्य 51 जिलों से 8-8 छात्रों व 2-2 मार्गदर्शी शिक्षकों को मोगली महोत्सव में जंगल सफारी का मौका मिलेगा।

1989 में बना था मोगली पर सीरियल, दीवाना हो गया था जापान

भारत के जंगलों में पाए जाने वाले मोगली के बारे में उसकी खासियतें एक अंग्रेज लेखक ने पहचानी, लेकिन इसे फिल्माने का काम जापान ने किया। जापान में सिवनी के इस बालक के कारनामों के बारे में 1989 में एक 52 एपिसोड वाला सीरियल तैयार किया गया था। 'द जंगल बुक शिओन मोगली" नाम से बनाए गए इस एनिमेटेड सीरियल को जब टीवी पर प्रसारित किया गया, तो जापान का हर आदमी मोगली का दीवाना हो गया।

संख्या घटाने पर चल रहा मंथन

चयनित छात्रों को दो वर्गो में शामिल किया जाएगा। 5वीं से 8वीं तक के छात्र कनिष्ठ वर्ग और 9वीं से 12वीं तक के छात्र वरिष्ठ वर्ग में शामिल होंगे। इस बार राज्य शिक्षा केंद्र की आयुक्त ने मोगली उत्सव में प्रत्येक जिले से 8-8 बच्चांे को शामिल करने के निर्देश दिए हैं। इससे पहले प्रत्येक जिले से 4-4 छात्रों व दो मार्गदर्शी शिक्षक बुलाए जाते रहे हैं। शिक्षा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक मोगली बाल उत्सव को दो स्थानों पर आयोजित किए जाने पर भी विचार विमर्श किया जा रहा है। पेंच के अलावा कान्हा नेशनल पार्क के विकल्प पर भी विचार चल रहा है।

स्लीमन के दस्तावेजों में मोगली का उल्लेख

ब्रिटिश शासन के अंग्रेज अधिकारी कर्नल हेनरी विलियम स्लीमन के दस्तावेज में मोगली के होने के साक्ष्य मिलते हैं। वन्यजीव विशेषज्ञों के अनुसार मोगली लैंड का क्षेत्र मध्यप्रदेश के सिवनी जिले का जंगल है। जिसे अब इंदिरा प्रियदर्शनी राष्ट्रीय उद्यान या पेंच टाइगर रिजर्व भी कहते हैं। ऐसा कहा जाता है कि मोगली यहीं रहता था।

इनका कहना है

मोगली बाल उत्सव की तैयारियां विभाग द्वारा की जा रही हैं। पूर्व में मिले निर्देशों के तहत प्रदेश के अन्य 51 जिलों से 8-8 मोगली मित्र व दो मार्गदर्शी शिक्षक मोगली उत्सव कार्यक्रम में शामिल होंगे। बैठकों में इनकी संख्या कम करने पर भी विचार चल रहा है। अगले एक दो दिनों में नए दिशा निर्देश मिल सकते हैं।

गोपाल सिंह बघेल जिला शिक्षा अधिकारी सिवनी

Asian Shooting Championship: मध्यप्रदेश के ऐश्वर्य प्रताप ने भारत को दिलाया ओलिंपिक कोटा

Posted By: Hemant Upadhyay