सुसनेर(नईदुनिया न्यूज)। कोरोना संक्रमण काल के बाद पहली बार धनतेरस पर सुसनेर के बाजार में रौनक दिखाई दी है। मंगलवार से धनतेरस के साथ ही पांच दिवसीय दीपोत्सव पर्व की शुुरुआत होने के चलते सराफा बाजार से लेकर शुक्रवारिया बाजार, पांच पुलिया सहित कई अन्य बाजारों में सोने चांदी के आभूषण, बर्तन, बाईक, इलेक्ट्रानिक्स की दुकानों पर विभिन्ना प्रकार की वस्तुओं की खरीदी करने के लिए ग्राहकों की भीड़ लगी रही। इस बार ग्राहकों ने स्थानीय कुम्हारों से दीपक, ग्रामीण अंचल के लोगों से पशुओं को सजाने की सामग्री व अन्य स्वदेशी वस्तुओं को ज्यादा खरीदने में रूचि दिखाई। ग्रामीण अंचल से लेकर शहरवासियों के द्वारा जमकर खरीदारी की गई, जिसके चलते पूरे बाजार में सड़कों पर लोगों की जगह-जगह भीड़ भी दिखाई दी। वहीं दो साल बाद धनतेरस पर पहली बार अच्छे कारोबार की उम्मीद से व्यापारियों की आर्थिक स्थिति में सुधार होने की भी उम्मीद जगी है। सांझ ढलने के साथ ही लोगों ने अपने घरों कीगैलरियों पर दीपमालाएं सजाई तो वहीं घरों व दुकानों को विद्युत रोशनी व आर्टिफिशयल फूलों से भी सजाया गया। धनतेरस पर दो पहिया वाहन शोरूम पर नगरवासियों सहित कई ग्रामीणजनों ने बाइक खरीदी।

सुरक्षा के मद्देनजर तीन स्थानो पर तैनात किया गया पुलिस बल

दीपोत्सव से पहले हुई चोरियों की वारदात से सबक लेकर मंगलवार को धनतेरस पर स्थानीय पुलिस प्रशासन के द्वारा शहर के प्रमुख तीन सार्वजनिक स्थानों पर सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस को तैनात किया गया। दो पुलिस जवानों की ड्यूटी सुसनेर के सबसे व्यस्ततम क्षेत्र हाथी दरवाजे पर लगाई गई है तो वहीं दो पुलिसकर्मियों को महुडी दरवाजा क्षेत्र में तैनात किया गया है जो बड़े वाहनों को नगर के अंदर प्रवेश करने से रोकते रहे तो वहीं दो पुलिसकर्मियों की तैनाती धनतेरस के चलते शुक्रवारिया व सराफा बाजार में की गई है ताकि इस क्षेत्र में त्योहार के चलते कोई चोरी की वारदात को अंजाम न दे सके।

किसानों द्वारा की गई पटाखा व पशु श्रृंगार सामग्री की खरीदी

मंगलवार से धनतेरस के साथ ही पांच दिवसीय दीपोत्सव का पर्व शुरू हो गया है और इस बार रोशनी के त्योहार दीपावली पर आतिशबाजी करने के लिए मंगलवार को धनतेरस के शुभ अवसर पर मेला ग्राउंड में सजे बाजार ग्रामीण अंचल के किसानों के द्वारा जमकर पटाखों व पशुओं को सजाने वाली सामग्री की खरीदारी की गई। बता दें की दीपावली के अगले ही दिन पडवा पर किसानों के द्वारा पशुधन के रूप में गाय, बैल, बकरी व अन्य पशुओं की पूजा की जाती है। इस दिन इनकी पूजा से पहले इन पशुओं को सजाया जाता है और फिर उसके बाद आतिशबाजी की जाती है। इसी के चलते मंगलवार को मेला ग्राउंड में किसानों के द्वारा पटाखों व पशुओ को सजाने के लिए जमकर विभिन्ना प्रकार की वस्तुओं की खरीदारी की गई।

दीपावली रोशन करने वितरित की खाद्य सामग्री

2सुसनेर3 राशन सामग्री वितरित करते सोसायटी के सदस्य।

सुसनेर। कोरोना काल में बहुत से लोग दिवंगत हो गए। कुछ परिवारों का चिराग भी इस बीमारी ने छीन लिया, ऐसे में इस दीपावली को मनाने का संकट भी कुछ परिवारों के सामने खड़ा हो गया था ऐसे पीड़ित स्वजनों की दीपावली रोशन करने के लिए मंगलवार की दोपहर एक बजे सांई तिराहे के समीप स्थित संतोष कैथोलिक कान्वेंट स्कूल में चाइल्ड लाइन व कृपा वेलफेयर सोसायटी के द्वारा एक कार्यक्रम आयोजित कर 30 से अधिक परिवारों को राशन सामग्री वितरित की। इस सामग्री में आटा, दाल, तेल, शक्कर, चाय, नमक व मिर्च पाउडर इत्यादि खाद्य सामग्री वितरित की गई। इस अवसर पर चाइल्ड लाईन के जिला समन्वयक रामेश्वर सोनी, फादर जोर्ज, स्टोलबिन, महिला एवं बाल विकास विभाग के जमील काजी व सोसायटी के कार्यकर्ता शिवानी व्यास, रोहित कारपेंटर, संतोष परमार, धारासिह आदि मौजूद रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local