उज्जैन (नईदुनिया प्रतिनिधि)। उज्जैन-इंदौर रेल मार्ग पर विक्रमनगर स्टेशन तथा उज्जैन-फतेहाबाद रेल मार्ग पर चिंतामन स्टेशन कायाकल्प हो चुका है। दोनों स्टेशन करीब दस करोड़ रुपये की लागत से नए स्वरूप में आ गए हैं, लेकिन इन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं रोकी जा रहीं। इससे इनका उपयोग नहीं हो रहा है। विक्रम नगर में जहां मात्र एक ट्रेन का स्टापेज है, वहीं चिंतामन स्टेशन पर दो जोड़ ट्रेनों को रोका जा रहा है। यात्रियों का सवाल है कि स्टेशन बनाने से क्या लाभ।

बता दें कि 22.90 किलोमीटर उज्जैन-फतेहाबाद रेल मार्ग का गेज परिवर्तन काम करीब 250 करोड़ रुपये की लागत से बीते वर्ष पूरा किया गया है। इस रूट का पहला स्टेशन चिंतामन गणेश है। चिंतामन रेलवे स्टेशन पर दो मंजिला भवन और 600 मीटर लंबा प्लेटफार्म बनाया गया है। यहां 24 कोच की मालगाड़ी व ट्रेन आसानी से खड़ी हो सकती है। स्टेशन की दीवारों पर कलाकारों ने रंग-बिरंगे चित्र बनाए हैं। यहां इलेक्ट्रिफिकेशन भी किया है।

20 गांवों के लोगों को मिलेगी सुविधा

चिंतामन स्टेशन पर उज्जैन से इंदौर आने-जाने वाली दो जोड़ मेमू ट्रेन को रोका जाता है। इंदौर जाने वाली मेमू ट्रेन सुबह 6.20 बजे तथा दोपहर 4 बजे रुकती है। इंदौर से आने वाली ट्रेन सुबह 9.40 बजे तथा दोपहर 12.40 बजे रुकती है। चिंतामन स्टेशन पर अधिक ट्रेनों का स्टापेज शुरू करने से आसपास के 20 गांवों के लोगों को सुविधा मिलेगी। वर्तमान में इन गांवों में रहने वाले लोगों को इंदौर के अलावा अन्य शहरों की यात्रा करने के लिए उज्जैन के मुख्य स्टेशन तक आना पड़ता है।

विक्रमनगर स्टेशन पर केवल एक ट्रेन रुक रही

उज्जैन-देवास-इंदौर रेल मार्ग पर मुख्य स्टेशन के बाद पहला स्टेशन विक्रमनगर है। सिंहस्थ 2016 में इसके सामने से इनर रिंग रोड बनाया था। तभी से इसे नया रूप देने की योजना बनाई थी। यहां बहुमंजिला स्टेशन भवन बनाया गया है। पहले यहां एक प्लेटफार्म था। अब दो बनाए हैं। इसके अलावा एफओबी का भी निर्माण किया गया है। स्टेशन पर टिकट बुकिंग के साथ यात्री और रेलवे अफसर विश्राम भी कर सकेंगे।

कोरोना में किया ट्रेनों का स्टापेज खत्म

उज्जैन से देवास होते हुए इंदौर से आने व जाने वाली करीब 20 से ज्यादा ट्रेनों का स्टापेज कोरोना काल में विक्रमनगर स्टेशन पर खत्म कर दिया गया है। वर्तमान में यहां मात्र उज्जैन से इंदौर जाने वाली पैसेंजर ट्रेन को रोका जा रहा है। यह ट्रेन सुबह 8.10 बजे विक्रम नगर पहुंचती है तथा वापसी में यह रात 8 बजे विक्रम स्टेशन पर रुकती है। इस स्टेशन पर स्टापेज शुरू होने का फायदा नागझिरी, हामूखेड़ी, अभिलाषा कालोनी व आसपास की 20 से ज्यादा कालोनी के अलावा मक्सी रोड पर पंवासा, केसर बाग सहित 25 से ज्यादा कालोनी के लोगों को मिलेगा।

कोरोना काल के दौरान छोटे स्टेशनों पर ट्रेनों का स्टापेज बंद कर दिया गया था। धीरे-धीरे स्टापेज शुरू किया जा रहा है।- विनीत गुप्ता, डीआरएम

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close