उमरिया(नईदुनिया प्रतिनिधि)। मालगाड़ियों के लिए यात्री गाड़ियों को रद्द करने और देर से चलाने से लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। रेलवे ने गुरुवार को एक नया आदेश जारी करके फिर से अगले कुछ दिनों के लिए कई ट्रेनों को बंद कर दिया है। पिछले चार महीने से लगातार यही सिलसिला चल रहा है। ट्रेनें रद्द करने का आदेश जारी कर दिया जाता है और जैसे ही निर्धारित समय नजदीक आता है फिर से किसी बहाने से ट्रेनों को रद्द कर दिया जाता है। इससे लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

कुछ महत्वपूर्ण ट्रेनें की जो रद्द की गईं हैं

- 25 जून से 09 जुलाई, 2022 तक बिलासपुर एवं भोपाल से रवाना होने वाली गाडी संख्या- 18236/18235 बिलासपुर-भोपाल -बिलासपुर एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

- 24 जून से 08 जुलाई, 2022 तक बिलासपुर से रवाना होने वाली गाडी संख्या 18247 बिलासपुर - रीवा एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

- 25 जून से 09 जुलाई, 2022 तक रीवा से रवाना होने वाली गाडी संख्या 18248 रीवा -बिलासपुर एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

- 24 जून से 08 जुलाई, 2022 तक जबलपुर से रवाना होने वाली गाडी संख्या 11265 जबलपुर- अंबिकापुर एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

- 25 जून से 09 जुलाई, 2022 तक अम्बिकापुर से रवाना होने वाली गाडी संख्या 11266 अंबिकापुर-जबलपुर एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

- 27 जून एवं 04 जुलाई, 2022 को नांदेड से रवाना होने वाली गाडी संख्या 12767 नांदेड- संतरागाछी एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

- 29 जून एवं 06 जुलाई, 2022 को संतरागाछी से रवाना होने वाली गाडी संख्या 12768 संतरागाछी- नांदेड एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

- 29 जून एवं 06 जुलाई, 2022 को रानी कमलापति से रवाना होने वाली गाडी संख्या 22169 रानी कमलापति- संतरागाछी एक्सप्रेस रद्द रहेगी।

शटल के यात्री ज्यादा परेशानः शहडोल, उमरिया, अनुपपुर की लाइफ लाइन कही जाने वाली चिरमिरी-कटनी मुड़वारा-चिरमिरी पैसेंजर ट्रेन पिछले तीन साल से बंद है। इस ट्रेन के बंद होने के कारण तीनो जिलों के कर्मचारी बुरी तरह से प्रभावित हो रहे हैं। इस ट्रेन में अनूपपुर से शहडोल, अनूपपुर से उमरिया और शहडोल से उमरिया नौकरी करने वाले लगभग पांच सौ कर्मचारी प्रतिदिन यात्रा करते हैं। अब इस ट्रेन के रद्द होने के कारण इन यात्रियों को दूसरी व्यवस्थाएं करनी पड़ रही है जिससे उनके सामने परेशानी उत्पन्ना हो रही है।

पहले भी उठी थी आवाजः शटल के यात्रियों ने पहले भी इस मामले में आवाज उठाई थी। शटल पैसेंजर ट्रेन के साथ रेलवे के अधिकारियों ने काफी समय पहले ही खिलवाड़ करना शुरू कर दिया था। लगभग एक साल पहले इस ट्रेन का एक रैक कम कर दिया गया था जिससे हमेश समय पर चलने वाली ये ट्रेन कटनी मुड़वारा से चिरमिरी की दिशा में जाते समय प्रतिदिन दो से तीन घंटे की देरी से चलने लगी थी। इसी के साथ इस ट्रेन को कटनी जंक्शन की जगह मुड़वारा से चलाया जाने लगा।

बीना कटनी का रैकः जब इस ट्रेन के दो रैक थे तो दूसरे रैक को शाम साढ़े चार बजे कटनी जंक्शन रेलवे स्टेशन से छोड़ दिया जाता था जो समय पर शहडोल पहुंच जाता था। शटल का एक रैक बंद करने के बाद 51601 बीना-कटनी मुडवारा के रैक को ही सीधे शहडोल की दिशा में भेजा जाने लगा। इससे होता यह है कि51601 बीना-कटनी मुड़वारा ट्रेन मुड़वारा स्टेशन में लेट आती है और आने के बाद भी इसे काफी देर तक खड़े रखने के बाद ही शहडोल की दिशा में रवाना किया जाता है।

चुप बैठे हैं नेताः शटल से यात्रा करने वाले कर्मचारियों में नेताओं के रुख को लेकर अच्छी खासी नाराजगी है। कर्मचारियों का कहना है किइतनी बड़ी समस्या पर संभाग के नेताओं ने आज तक ध्यान नहीं दिया। जो लोग भी रेल मंत्री से मिलने गए उन्होंने भी इस मुद्दे पर कभी चर्चा नहीं की सिर्फ उनके साथ अपना फोटो खिंचवाया और वापस लौट आए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close