Health Tips: इंदौर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। अकसर देखने में आता है कि ठंड के मौसम में महिलाएं पानी का सेवन कम करती हैं। यह परेशानी की वजह बन सकता है। इस मौसम में आपको चाहिए कि ठंडा पानी पीने के बजाय गुनगुने पानी का सेवन करें। फास्ट फूड से परहेज करें। बहुत ज्यादा तला-गला भोजन भी नुकसान पहुंचाता है। इससे बचें। विटामिन सी एक अच्छा एंटी आक्सीडेंट है। विटामिन सी से भरपूर आहार लें। सूखे मेवे का सेवन भी करना चाहिए। गर्भवती महिलाओं को चाहिए कि वे अपनी सभी जांचें नियमित करवाएं और डाक्टर से संपर्क में रहें। इस मौसम में पर्याप्त फल और सब्जियां आती हैं। इनका सेवन करें और स्वस्थ रहें।

यह बात स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. अविनाश पटवारी ने नईदुनिया से चर्चा में कही। उन्होंने कहा कि परिवार की देखभाल में व्यस्त महिलाएं अपनी सेहत को लेकर लापरवाह हो जाती हैं। वे अपने ही खानपान पर ध्यान नहीं दे पातीं। जरूरी है कि वे अपने लिए भी समय निकालें।

नियमित व्यायाम करें

डा.पटवारी ने कहा कि महिलाओं को भी नियमित रूप से हल्के व्यायाम करना चाहिए। पैदल चलाना भी एक अच्छा व्यायाम है। रोजाना कम से कम 30 मिनट पैदल चलें। मौसम में लगातार बदलाव हो रहा है। रात के समय ठंडक होती है तो दिन में गर्मी का अहसास होने लगता है। इस मौसम में वायरल इंफेक्शन बहुत तेजी से फैलते हैं, इसलिए अतिरिक्त सावधानी जरूरी है।

कुछ देर धूप में भी बैठे

हमें ठंड के सीधे संपर्क में आने से बचना चाहिए। बहुत सुबह घर से बाहर निकलने से बचना चाहिए। शरीर को पूरी तरह से ढंकने के बाद ही बाहर निकलें। सुबह ठंडक कम होने के बाद ही टहलने निकलें। शरीर में विटामिन डी की कमी को दूर करने के लिए रोजाना सुबह के वक्त कुछ देर धूप में अवश्य बैठें। धूप विटामिन डी का प्राकृतिक स्रोत है।

Posted By: Hemraj Yadav

  • Font Size
  • Close