Gudmar Leaves For Diabetes: डायबिटीज मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। जिसका मुख्य कारण गलत खान-पान और खराब लाइफस्टाइल है। इसके अलावा भी कई कारणों से लोग इस बीमारी का शिकार हो जाते हैं। इसलिए मधुमेह के रोगियों को अपने डाइट का विशेष ध्यान रखना चाहिए। ऐसे में आप दवाइयों के साथ घरेलू उपाय करके शुगर को नियंत्रण कर सकते हैं। यह उपाय गुड़मार है। जिससे अंग्रेजी में जिमनेमा सिल्वेस्ट्रे कहते हैं।

गुड़मार की पत्तियों का इस्तेमाल ज्यादातर दवा के लिए किया जाता है। यह ब्लड शुगर के मरीजों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह टाइप 1 और टाइप 2 दोनों ही प्रकार की डायबिटीज में कारगार है। यह शरीर में इंसुलिन के स्तर को बढ़ाता है। वहीं रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है। इतना ही नहीं आप बैड कोलेस्ट्रॉल स्तर को कम करने के लिए गुड़मान के पत्तों या पाउडर का सेवन कर सकते हैं।

डायबिटीज में कैसे फायदेमंद है गुड़मार?

गुड़मार में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। साथ ही यह घटक अग्नाशय की कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाता है। इंसुलिन के स्नाव को बढ़ाता है। जिससे ब्लड शुगर का स्तर कम होता है। गुड़मार कई रिसर्च में मधुमेह के लिए रामबाण साबित हो चुका है। वहीं इसके पत्तों में रेजिन, एल्ब्यूमिन, क्लोरोफिल, कार्बोहाइड्रेट, टार्टरिक एसिड, फॉर्मिक एसिड, ब्यूटिरिक एसिड और एन्थ्राक्विनोन डेरिवेटिव होते हैं।

गुड़मार का सेवन कैसे करें

ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखने के लिए गुड़मार के पत्तों को खाली पेट चबाएं। फिर एक गिलास पानी पिएं। अगर चाहें तो एक गिलास पानी में आधा चम्मच गुडमार पाउडर मिलाकर पी लें। इसका सेवन लंच और डिनर से आधा घंटा पहले लें।

डिस्क्लेमर

यह लेख सामान्य जानकारी के आधार पर लिखा गया है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा डॉक्टर्स की सलाह जरूर लें। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close