कोलकाता। India China Conflict: गलवन घाटी में चीनी सेना से हिंसक झड़प में भारतीय सैनिकों की शहादत की घटना से पूरे देश में गुस्सा है। लेकिन इस बीच आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि देश में एक स्थान ऐसा भी है जहां चीनी नागरिक भारतीय सैनिकों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं। हम बात कर रहे हैं कोलकाता के टेंगरा के मठेश्वरतला रोड स्थित चाइनीज काली मंदिर की। टेंगरा को कोलकाता का चाइना टाउन कहा जाता है। यहां चीनी लोग कई सालों पहले आकर बसे थे, लेकिन यह मंदिर करीब 60 साल पहले बना था। इसे एक चीनी कारोबारी ने बनवाया था।

करीब 60-70 साल पहले टेंगरा के मठेश्वरतला रोड में पीपल के एक पेड़ के नीचे स्थानीय लोगों ने काली मां की एक छोटी-सी मूर्ति स्थापित की। पेड़ के नीचे स्थापित देवी की पूजा करने स्थानीय लोग या कहें कि स्थानीय हिंदू आते थे। उनको देखकर इलाके के चीनी लोग भी धीरे-धीरे पेड़ के नीचे पूजा करने आने लगे। उन्होंने स्थानीय लोगों से सुना कि देवी भक्तों की हर विपदा से रक्षा करती हैं। उनका यह विश्वास समय के साथ बढ़ता गया। बड़ी संख्या में चीनी लोग मां काली के भक्त बन गए।

बौद्ध धर्म का अनुयायी होने के बावजूद यहां के चीनी लोग काली मां की पूजा में हिस्सा लेने लगे। ऐसे ही एक भक्त थे फांग चुंग। पहले वह इसी इलाके में रहते थे, लेकिन उनका सपना था बड़ा कारोबारी बनने का। वह विदेश जाकर रेस्तरां खोलने की मुराद मन में लिए हुए थे। मन की मुराद पूरी हो, इसके लिए उन्होंने पीपल के पेड़ के नीचे वाली मां काली से मन्नत मांगी। कम ही वक्त में फांग चुंग ने कारोबार में बड़ी सफलता पाई। आखिरकार उन्हें विदेश में रेस्तरां खोलने का मौका मिला और वह कोलकाता छोड़कर वहां चले गए चले गए। अपना कारोबार स्थापित करने के 5 साल बाद फांग चुंग वापस आए और सीधे मां काली के दरबार में पहुंचे। उन्होंने आभार प्रकट करते हुए यहां मां काली का पक्का मंदिर बनवाया। मां काली और शिव की नई मूर्तिंयां भी बनवाईं। तभी से इस मंदिर का नाम पड़ गया चाइनीज काली मंदिर।

नाम भले ही चाइनीज काली मंदिर हो लेकिन यहां पूजा-पाठ पूरी तरह से हिंदू रीति-रिवाज से होता है। अब चीन-भारत में तनाव के बीच चीनी लोग भारत का समर्थन करते हैं और मंदिर में भारतीय सैनिकों के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।

Posted By: Rahul Vavikar