PM Kisan Yojana : किसानों के लिए एक और अच्‍छी खबर है। किसानों के बीच बेहद लोकप्रिय केंद्र सरकार की योजना पीएम किसान सम्‍मान निधि के तहत पिछले एक महीने में करीब 38 लाख से अधिक किसानों के बैंक खातों में 2-2 हजार रुपए की किश्‍त के पैसे जमा कराए गए हैं। इस योजना के दायरे में आने वाले किसानों को हर साल 6 हजार रुपए प्रदान किए जाते हैं। यह पूरा पैसा तीन किश्‍तों में सीधे किसान लाभार्थी के खाते में जमा कराया जाता है। अभी तक लॉकडाउन के बाद से दो बार किसानों को यह राशि मिल चुकी है। अब अगले महीने नवंबर 2020 तक करीब डेढ़ करोड़ और किसानों राशि दिए जाने की उम्‍मीद जताई जा रही है। इस योजना की छठी किश्‍त गत अगस्‍त 2020 में स्‍वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक समारोह में जारी की थी। इस क्रम में अब नवंबर में किसानों के खाते में किश्‍त का पैसा ट्रांसफर किया जाना है। यदि आप इस योजना के लाभार्थी हैं और आपके खाते में अभी तक पिछली किश्‍ते के पैसे नहीं आ पाए हैं तो आप अपने बैलेंस की स्‍टेटस चेक कर सकते हैं। इसके लिए कुछ प्रक्रिया का ध्‍यान रखना होगा। वे लोग जो इस योजना से जुड़कर इसका लाभ लेना चाहते हैं, उनके लिए इसकी पंजीयन की प्रक्रिया अभी चल रही है।

अपनी जानकारी आधिकारिक वेबसाइट पर करें चेक

पीएम किसान सम्‍मान निधि स्‍कीम के चलते यदि आपके खातों में किश्‍त का पैसा नहीं आया है तो आपके दस्‍तावेज या तो अपूर्ण होंगे या उनमें दर्ज की गई जानकारी में कुछ त्रुटि होगी। कहां चूक हुई है, इसका पता लगाने के लिए आपको इस योजना की आधिकारिक वेबसाइट pmkisan.gov.in पर लॉग इन करना होगा। इसके बाद इसमें दर्शाए गए 'Farmers Corner' के टैब पर Click करें। यदि आपने पहले से ही कोई आवेदन किया हुआ है और आपका आधार नंबर यदि इसमें ठीक तरह से अपलोड नहीं हुआ है या किसी भी अन्‍य कारणों से आधार नंबर गलत सबमिट हो गया है तो आपको इसे एडिट करना होगा। कई बार अपने नाम की स्‍पेलिंग भी गलत दर्ज होती है, इस कारण भी पैसा रुक जाता है। इसलिए भी इसे भी जांचना होगा। इस योजना से जुड़ी पूरी जानकारी, अपडेट देखने के लिए आपको स्‍टेटस चेक करने का भी ऑप्‍शन उपलब्‍ध है।

यह है आवेदन करने की प्रोसेस

पीएम किसान सम्‍मान निधि का फायदा लेने के लिए किसानों को कोई परेशानी ना हो, इसके लिए सेल्‍फ रजिस्‍ट्रेशन का भी ऑप्‍शन है। अगर इसमें किसान के पास रेवेन्‍यू का रिकॉर्ड, मोबाइल नंबर, बैंक अकाउंट नंबर, आधार कार्ड आदि हैं तो वे पीएम किसान की वेबसाइट पर जाकर अपना पंजीयन करवा सकते हैं। आपका आवेदन मंजूर हुआ है या नहीं, या आपके खाते में किश्‍त के पैसे आए हैं या नहीं, इसकी जानकारी पाने के लिए आप पीएम किसान पोर्टल पर विजिट कर सकते हैं।

अभी तक 10 करोड़ हो चुके हैं पंजीयन

इस योजना के तहत अभी तक 10 करोड़ 65 लाख से अधिक किसानों ने अपना रजिस्‍ट्रेशन कराया है। इस योजना के पीछे सरकार का मुख्‍य ध्‍येय किसानों को खेती से संबंधित आवश्‍यक्‍ताओं को पूरा करने के लिए आर्थिक मदद उपलब्‍ध कराना है। गत 9 अगस्‍त को योजना की छठी किश्‍त के रूप में केंद्र सरकार ने करीब 8.5 करोड़ किसानों के खातों में 17 हजार करोड़ रुपए जमा कराए थे। इसके बाद आगामी एक माह के भीतर ही केंद्रीय कृषि मंत्रालय की तरफ से भी 30 लाख एवं किसानों को 2-2 हजार रुपए भी प्रदान किए गए थे।

PM Kisan Yojana के अलावा 150 मोबाइल ऐप से किसानों को होंगे कई फायदे, जानिए क्या है योजना

PM Kisan Yojana एक ऐसी योजना है जो किसानों के बीच बहुत लोकप्रिय है। इस योजना के तहत किसानों के खातों में सीधा पैसा ट्रांसफर किया जाता है। लेकिन इस योजना के अलावा सरकार अन्‍य भी कारगर योजनाएं लेकर आई है जिससे किसानों को कई लाभ होंगे जल्द ही किसानों को हर तरह की सुविधा और जानकारी Online उनके मोबाइल फोन पर मिल सकेगी। राजस्थान सरकार किसानों के लिए 150 एप विकसित करवा रही है। इसमें से बीस एप तैयार हो चुके हैं। ये एप विकसित होने के बाद किसानों को सब्सिडी के आवेदन से लेकर भुगतान और अन्य तरह की सुविधा Online मिल सकेगी। ये सभी एप ’राज किसान साथी’ पोर्टल पर भी उपलब्ध होंगे। राजस्‍थान सरकार ने इस साल बजट भाषण में किसानों के लिए खेती और पशुपालन सहित सभी सहायक गतिविधियां आसान बनाने के लिए ‘ईज ऑफ डूइंग फार्मिंग’ की घोषणा की थी। उसी के तहत ’राज किसान साथी’ पोर्टल विकसित किया जा रहा है। राजस्थान के कृषि आयुक्त डाॅ. ओमप्रकाश ने बताया कि इस पोर्टल को विकसित करने के लिए अलग से प्रोजेक्ट मैनेजमेंट यूनिट की स्थापना की गई है। इस पोर्टल पर 150 एप विकसित किए जाएंगे। इनमें से 20 से अधिक एप का कार्य पूर्ण हो चुका है।

किसानों को होंगे इतने लाभ

- इस पोर्टल के जरिये आवेदन से लेकर किसान के खाते में अनुदान के भुगतान तक की प्रक्रिया अब सम्पूर्ण रूप से ऑनलाइन ही होगी।

- पोर्टल के जरिये किसानों को कृषि एवं संबद्ध विभागों की योजनाओं की सब्सिडी के आवेदन व खेती की सम्पूर्ण जानकारी ऑनलाइन उपलब्ध होगी।

- अनुदान योजनाओं में आवेदन प्रक्रिया को भी बेहद सरल बना दिया जाएगा।

- इस एकीकृत पोर्टल में कृषि, उद्यान, कृषि विपणन, सहकारिता, पशुपालन, मत्स्य पालन विभाग, बीज निगम व जैविक प्रमाणीकरण संस्था को शामिल किया गया है।

- इस पोर्टल और एप विकसित होने के बाद किसानों को किसी भी काम के लिए विभाग के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं पडेगी।

- यह ऐसी एकीकृत प्रणाली होगी, जिससे किसानों को एक ही जगह सारी जानकारी और सुविधाएं मिल सकेंगी।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस