Rashifal October 2022: ज्योतिष एक प्राचीन पद्धति है जो मानव व्यवहार और घटनाओं से संबंधित मार्गदर्शन करने के लिए ग्रहों के पिंडों, राशियों और घरों का उपयोग करती है। ज्योतिष में शनि, बृहस्पति, शुक्र, मंगल और बुध के अलावा सूर्य और चंद्रमा को भी ग्रह माना गया है। राहु और केतु को छाया ग्रह माना जाता है। आगामी अक्‍टूबर में माह में 7 बड़े ग्रहों का गोचर होने जा रहा है। यहां हम आपको बता रहे हैं अक्टूबर राशिफल की भविष्यवाणियां जो कि सूर्य राशियों और सूर्य के संबंध में अन्य ग्रहों के गोचर से संबंधित हैं। जानिये कि जब ये ग्रह अपनी चाल बदलेंगे तो सभी राशियों इनका कैसा अच्‍छा या बुरा प्रभाव पड़ेगा।

अक्टूबर में ग्रहों का गोचर:

बुध का कन्या राशि में सीधा भ्रमण – 2 अक्टूबर 2022

मंगल का मिथुन राशि में गोचर -16 अक्टूबर, 2022

सूर्य का तुला राशि में गोचर – 17 अक्टूबर 2022, कन्या राशि से

शुक्र का तुला राशि में गोचर – 18 अक्टूबर 2022

शनि का मकर राशि में सीधा भ्रमण – 23 अक्टूबर 2022

बुध का तुला राशि में गोचर – 26 अक्टूबर 2022

बृहस्पति मेष राशि में है - 28 अक्टूबर, 2022

मकर राशि में शनि रेट्रो, 23 अक्टूबर, 2022 को मार्गी होंगे

राहु मेष में और केतु तुला राशि में

अक्टूबर राशिफल: सभी सूर्य राशियों के लिए

मेष

सूर्य के कन्या राशि में गोचर के दौरान आपको सफलता मिलेगी। काम में आ रही रुकावटें दूर होंगी। आपका स्वास्थ्य अच्छा रहेगा, और जीवन सुखी और स्वस्थ रहेगा। यदि आप किसी चिकित्सीय प्रतिकूलता से गुज़रे हैं तो रिकवरी जल्दी होगी।

प्रतियोगी परीक्षा या सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे छात्रों के लिए सुनहरा अवसर। आप अपने काम को पहुंचाने और विस्तार करने में सफल होंगे। मेष राशि वालों को अपने परिवार में संतुष्टि का अनुभव होगा।

17 अक्टूबर को सूर्य का वायु राशि तुला में गोचर मेष राशि के लोगों को थोड़ा अहंकारी बना सकता है। यहां सूर्य नीच का है, इससे परिवार, दोस्तों और सहकर्मियों के साथ संघर्ष हो सकता है। जीवनसाथी पर विशेष ध्यान दें। यह वह समय है जब इस राशि के जातकों को शांत रहने और हर तरह के टकराव से बचने की जरूरत है।

उपाय: रोज सुबह भगवान सूर्य को जल चढ़ाएं।

वृषभ

आपके निजी जीवन में किसी मुद्दे को लेकर परिवार से अनबन और आपके कर्मचारियों के साथ संबंध भी थोड़े खराब हो सकते हैं। इसलिए शुरू से ही जितना हो सके शांत रहने की कोशिश करें। आपको इस दौरान कोई बड़ा फैसला लेने से भी बचना चाहिए क्योंकि आपको धन हानि हो सकती है। दूसरी ओर, यह गोचर पेशेवर उपलब्धि की संभावना को बढ़ाता है। खेल कर्मियों और रचनात्मक क्षेत्रों के लोगों को लाभ होगा।

सूर्य का वायु राशि तुला में प्रवेश व्यक्तिगत और पेशेवर दोनों मोर्चे पर भाग्य और समृद्धि लाएगा। यदि आप नौकरी के अवसर की तलाश में हैं तो यह अवधि आपके लिए भाग्य लेकर आ सकती है। यदि आप किसी भी स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित हैं, तो आपकी रिकवरी तेजी से होगी। लेकिन वाहन चलाते या सड़क पार करते समय अतिरिक्त सावधानी बरतें।

उपाय: 'O सूर्याय नमः' का नियमित जाप करें।

मिथुन

परिवार में कुछ कलह के संकेत हैं। वाद-विवाद और वाद-विवाद से बचें। वैवाहिक जीवन में कुछ चुनौतियाँ आ सकती हैं और साझेदारी ख़राब हो सकती है। अपने स्वास्थ्य की देखभाल करें; कुछ त्वचा संबंधी समस्याओं का संकेत दिया। आपके साथी/पति/पत्नी को आर्थिक लाभ हो सकता है। यात्रा से बचें क्योंकि यह फलदायी नहीं होगा।

संचार स्पष्ट रखें और शांत रहें। अपने जीवन में सकारात्मक पर ध्यान दें और आशावादी दृष्टिकोण रखें। रचनात्मकता में आपकी रुचि चरम पर होगी।

उपाय: भगवान गणेश से प्रार्थना करें और 'O गं गणपताय नमः' का जाप करें।

कर्क

वर्तमान में सूर्य का तीसरे भाव में गोचर कर्क राशि के तहत पैदा हुए लोगों के लिए फायदेमंद होगा। आपके करियर में उन्नति और वित्तीय लाभ के संकेत हैं। स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं का सकारात्मक समाधान होगा। काम के सिलसिले में यह गोचर आपकी मदद करेगा। आपके प्रयासों को मान्यता दी जाएगी, और आपको पदोन्नति या वृद्धि प्राप्त हो सकती है। परिवार में सहयोग और समझ बनी रहेगी।

तुला राशि में सूर्य कमजोर स्थिति में है, जो इस राशि के जातकों के लिए ज्यादा अच्छी खबर नहीं लेकर आ सकता है। आपके कठोर लहज़े के कारण आपका कुछ विवाद हो सकता है, जिससे आलोचना हो सकती है। माता के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। स्वास्थ्य संबंधी किसी भी स्थिति को हल्के में न लें।

उपाय: सूर्य मंत्र 'O घृणि सूर्याय नमः' का जाप करें।

सिंह

सिंह राशि में जन्म लेने वालों के लिए सूर्य का प्रत्येक गोचर महत्वपूर्ण होता है। क्योंकि यह आपकी ही राशि का स्वामी है; सूर्य का दूसरे भाव से गुजरना आपके लिए फायदेमंद नहीं हो सकता है। यह अनुशंसा की जाती है कि आप सावधानी से निर्णय लें और बोलते समय थोड़ा विचार करें। हर स्थिति में शांत रहें और किसी भी बातचीत में कठोर शब्दों का प्रयोग न करें। अपने स्वास्थ्य को प्राथमिकता दें। हर तरह के आर्थिक लेन-देन में सावधानी बरतें।

टी के दौरानमहीने के दूसरे भाग में आप महत्वाकांक्षी, ऊर्जावान और उत्साही रहेंगे। आपके आसपास प्यार और शांति होगी। आपको पेशेवर रूप से बढ़ने के अवसर भी प्राप्त होंगे।

उपाय: सूर्य ग्रह के मंत्रों का जाप करें 'O सूर्याय नमः'।

कन्या

सूर्य का गोचर अधिकांश कन्या राशि वालों के लिए परेशानी का कारण बनेगा। आप बढ़े हुए अहंकार का अनुभव करेंगे, जिसका प्रभाव प्रियजनों के साथ आपके संबंधों पर पड़ सकता है। अपने वित्तीय जीवन के संदर्भ में, किसी भी वित्तीय लेनदेन में संलग्न होने से पहले अत्यधिक सावधानी बरतें। यह गोचर स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं जैसे बुखार, सिरदर्द और अपच का कारण बन सकता है। अपने स्वास्थ्य की उपेक्षा न करें, खासकर काम के बढ़ते बोझ के साथ।

सूर्य स्वामी महीने के मध्य में आपके दूसरे भाव में गोचर करेगा, और यह आपको तनाव दे सकता है और आपके जीवन पर भी महत्वपूर्ण प्रभाव डालेगा। जो लोग विदेश यात्रा करना चुनते हैं उन्हें लाभ होगा; आर्थिक लाभ के भी संकेत हैं। आपको बड़े फैसले लेने से पहले सोचने की सलाह दी जाती है।

उपायः प्रत्येक रविवार को लाल मसूर का दान करें।

तुला

सूर्य तुला राशि के एकादश भाव का स्वामी है और इस गोचर के दौरान ग्रह आपकी राशि से बारहवें भाव में रहेगा। बारहवें घर को कभी-कभी कुंडली में हानि और व्यय का घर कहा जाता है। सूर्य का तुला राशि के इस भाव में गोचर इस अवधि में आपको विदेश ले जा सकता है।

यह यात्रा के मोर्चे पर अच्छी खबर प्राप्त करने की संभावनाओं में सुधार करेगा, खासकर उन लोगों के लिए जो लंबे समय से विदेश यात्रा करने की इच्छा रखते हैं और असफल रहे हैं। इस गोचर के दौरान आपके साथ दुर्घटना हो सकती है। विरोधियों और विरोधियों से सावधान रहें। आप काम करने के लिए थोड़ा कम और निराश महसूस कर सकते हैं। आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य खराब हो सकता है और परिवार में कुछ मनमुटाव हो सकता है।

उपायः मां दुर्गा की पूजा करना लाभकारी सिद्ध होगा।

वृश्चिक

आय में वृद्धि, वृद्धि या बोनस और सभी चीजें अच्छी होने की अपेक्षा करें। आपकी आय के स्रोतों का विस्तार होगा, और आप कई चैनलों के माध्यम से पैसा कमाने में सक्षम होंगे। घर में रिश्ते और माहौल भी आपको संतुष्टि देगा। अच्छे पारिवारिक जीवन के संकेत हैं। आपके बॉस आपको खुले तौर पर काम पर प्रोत्साहित करेंगे, और सहकर्मी सहयोग करेंगे।

वृश्चिक राशि के जातक मिलनसार और रचनात्मक होंगे और व्यक्तिगत और पेशेवर दोनों तरह से विकसित होंगे। यह एक तनाव मुक्त और आराम का चरण होगा। अपने स्वास्थ्य को लेकर सतर्क रहें। कुछ त्वचा एलर्जी उत्पन्न हो सकती है।

उपायः हनुमान जी की पूजा करना लाभप्रद रहेगा।

धनु

जो लोग नौकरीपेशा हैं वे अपने करियर में आगे बढ़ने के अवसरों का पीछा करते हुए दिखाई देंगे। भगवान सूर्य आपको जीवन में अच्छी और नई संभावनाएं प्रदान करेंगे। नाम और प्रसिद्धि आपके रास्ते में आने की संभावना है और आपको पुरस्कार भी मिल सकता है। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। आप एक सुखी और स्वस्थ जीवन का आनंद लेने में सक्षम होंगे। आपको कई प्रभावशाली लोगों से मिलने के कई मौके मिलेंगे। आपका सामाजिक कद भी बढ़ेगा।

धनु राशि के जातकों के लिए सूर्य का तुला राशि में संक्रमण आर्थिक मामलों में अस्थिरता लाएगा। पिता से कुछ अनबन हो सकती है। काम के मोर्चे पर, आपको प्रशंसा और पदोन्नति मिलेगी। आप कुछ नए शौक उठा सकते हैं जो आनंद का स्रोत होंगे।

उपाय: किसी भी मंदिर में पीली दाल और गुड़ चढ़ाएं।

मकर राशि

मकर राशि के आठवें भाव का स्वामी सूर्य अब आपकी राशि के नवम भाव में गोचर कर रहा है जिससे आपके जीवन में उतार-चढ़ाव आ रहा है। आसपास के लोगों से आपकी कुछ अनबन हो सकती है। आपको किसी भी स्थिति में लोगों पर अपनी इच्छा थोपना छोड़ देना चाहिए।

मानसिक तनाव का संकेत है। पूरी स्थिति को समझे बिना अपने परिवार की किसी भी बात पर अपनी राय न दें। जब सूर्य तुला राशि में जाएगा, तो आपके नेतृत्व कौशल में वृद्धि होगी। आप सकारात्मक, उत्साही और जीवन के सभी क्षेत्रों में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए प्रेरित होंगे। आपके रिश्तों में काफी सुधार होगा और आप अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेंगे।

उपायः हनुमान जी की पूजा करने की सलाह दी जाती है।

कुंभ

अपने आप को शांत रखें और वाद-विवाद और टकराव में पड़ने से बचें। पार्टनर की सेहत का ध्यान रखें। आपके बढ़ते ख़र्चे चिंता का कारण बनेंगे। कुंभ राशि वालों के लिए यह संक्रमण आपके तनाव और तनाव के स्तर को बढ़ा सकता है। पेशेवर जीवन के लिहाज से यह दौर बदलाव की तलाश करने वालों के लिए अच्छा है। नए अवसर आपके रास्ते में आ सकते हैं इसलिए सतर्क रहें और उनका उपयोग करें। संवाद स्पष्ट रखें और अस्पष्टता से बचें। स्वास्थ्य उत्तम रहेगा।

उपाय: प्रतिदिन स्नान कर शनिदेव की पूजा करें।

मीन राशि

मीन राशि के छठे भाव का स्वामी सूर्य आपकी राशि के सप्तम भाव में रहेगा। कुंडली का सप्तम भाव जीवन में दीर्घकालिक साझेदारी को दर्शाता है। दीर्घकालिक व्यापार भागीदारों और जीवनसाथी के साथ कुछ असहमति के संकेत हैं। यदि आप प्रपोज करने की योजना बना रहे हैं, तो अभी अच्छा समय नहीं है। कार्यक्षेत्र में आप अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सक्षम नहीं हो सकते हैं। स्वास्थ्य के मोर्चे पर, चिंता और तनाव आपको परेशान कर सकता है। जल राशि मीन राशि के लिए, सूर्य का तुला राशि में संक्रमण आपको संघर्षों और बाधाओं के साथ खड़ा करेगा। आपको अपनी प्रतिबद्धताओं पर कायम रहने के लिए अधिक मेहनत करनी पड़ेगी।

उपाय: तांबे के बर्तन में सूर्य देव को जल चढ़ाएं।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close