Kartik Month 2022: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हिंदू वर्ष में 12 महीने होते हैं। इनमें से 8वें महीने का नाम कार्तिक है। इस महीने की पूर्णिमा तिथि पर चंद्रमा कृत्तिका नक्षत्र में होता है। इसी नक्षत्र के चलते इस महीने का नाम कार्तिक रखा गया है। कार्तिक भगवान शिव के पुत्र का भी नाम है। कार्तिक के महीने में करवा चौथ, दीपावली, छठ पूजा आदि कई प्रमुख उत्सव मनाए जाते हैं। तिथियों के घटने-बढ़ने के कारण कार्तिक मास 29 दिन का ही रहेगा। इन 29 दिनों में से 18 दिन कोई न कोई व्रत उत्सव रहेगा। आधे से ज्यादा महीना व्रत और त्योहारों में ही बीतेगा। साथ ही इस महीने साल के अंतिम सूर्य और चंद्र ग्रहण 25 अक्टूबर और 8 नवंबर को लगने जा रहे हैं। धार्मिक दृष्टिकोण से यह बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाला है।

कार्तिक मास त्योहार

13 अक्टूबर, गुरुवार -करवा चौथ व्रत

15 अक्टूबर, शनिवार - स्कंद षष्ठी व्रत

17 अक्टूबर, सोमवार - अहोई अष्टमी व्रत

18 अक्टूबर, मंगलवार - पुष्य नक्षत्र

21 अक्टूबर, शुक्रवार - रमा एकादशी

22 अक्टूबर, शनिवार - धनतेरस, प्रदोष व्रत

23 अक्टूबर, रविवार - रूप चतुर्दशी, नरक चतुर्दशी

24 अक्टूबर, सोमवार - दीपावली, केदार-गौरी व्रत

26 अक्टूबर, बुधवार - गोवर्धन पूजा

27 अक्टूबर, गुरुवार - भाई दूज, यम द्वितीया

28 अक्टूबर, शुक्रवार - सूर्य षष्ठी व्रत आरंभ, विनायकी चतुर्थी व्रत

30 अक्टूबर, रविवार - छठ पूजा, डाला छठ

01 नवंबर, मंगलवार - गोपाष्टमी

02 नवंबर, बुधवार - आंवला नवमी, अक्षय नवमी

04 नवंबर, शुक्रवार - देवउठनी एकादशी, तुलसी विवाह

05 नवंबर, शनिवार - प्रदोष व्रत, चातुर्मास समाप्त

07 नवंबर, सोमवार - वैकुण्ठ चतुर्दशी

08 नवंबर, मंगलवार - स्नान दान पूर्णिमा, गुरु नानक देव जयंती

इस दिन होगा ग्रहण

कार्तिक मास में 24 अक्टूबर, सोमवार को दीपावली पर्व मनाया जाएगा। इसके दूसरे ही दिन यानी 25 अक्टूबर, मंगलवार की शाम को सूर्यग्रहण होगा। ऐसा संयोग कम ही बनता है जब दीपावली के दूसरे ही दिन सूर्यग्रहण हो। 25 अक्टूबर को अमावस्या तिथि शाम तक रहेगी। जिसके चलते गोवर्धन पूजा का पर्व 26 अक्टूबर बुधवार को मनाया जाएगा।

Grah Gochar 2022: एक ही दिन में होगा दो बड़े ग्रहों का गोचर, इन राशि वालों की लगेगी लॉटरी

डिसक्लेमर

'इस लेख में दी गई जानकारी/सामग्री/गणना की प्रामाणिकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। सूचना के विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/धार्मिक मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संकलित करके यह सूचना आप तक प्रेषित की गई हैं। हमारा उद्देश्य सिर्फ सूचना पहुंचाना है, पाठक या उपयोगकर्ता इसे सिर्फ सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी तरह से उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता या पाठक की ही होगी।'

Posted By: Ekta Shrma

  • Font Size
  • Close