UPI Payment Update: पिछले कुछ सालों में बैंकिंग और वित्तीय लेन-देन पूरी तरह से बदल गया है। टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल की वजह से लोगों को कई सुविधाएं आसानी से मिल जाती है। यूपीआई उनमें से एक है। यूपीआई ने वित्तीय ट्रांजेक्शन को सरल बना दिया है। इसका इस्तेमाल लगभग हर कोई कर रहा है। यूपीआई के जरिए भुगतान करने के लिए इंटरनेट की जरूरत होती है। कई जगह ऐसी हैं, जहां इंटरनेट उपलब्ध नहीं है। ऐसे में यूपीआई के जरिए भुगतान करना मुश्किल है। हालांकि अब बिना इंटरनेट के भी UPI का इस्तेमाल कर सकते हैं। इतना ही नहीं बिल का भुगतान भी किया जा सकता है। यह सब आप 123PAY UPI सर्विस की मदद से कर सकते हैं।

राष्ट्रीय भुगतान निगम (NPCI) एक निकाय है जो यूपीआई को कंट्रोल करता है। एनपीसीआई ने हाल ही में ऐलान किया कि 123PAY बिजली बिल भुगतान सेवा 70 से अधिक बिजली बोर्डों के लिए उपलब्ध होगी। इस सर्विस का उपयोग करके ग्राहक अपने बिजली के बिलों का भुगतान जल्द और आसानी से कर पाएंगे। एनपीसीआई के अनुसार 123PAY सुविधा का उपयोग करके बिजली बिल का भुगतान किया जा सकता है। इसके लिए नीचे दिए गए तरीका अपनाएं।

1. बिजली बिल का भुगतान करने के लिए निम्नलिखित नंबरों पर कॉल करें- 080-4516-3666 या 6366 200 200

2. ग्राहक को बिजली बिल भुगतान का विकल्प चुनना होगा।

3. अब बिजली बोर्ड के नाम का चयन करना है।

4. अब मांगी गई जानकारी भरना है।

5. उसके बाद ग्राहक को बकाया बिल की जानकारी मिल जाएगी।

6. भुगतान करने के लिए अब UPI पिन दर्ज करना होगा।

123PAY UPI सर्विस क्या है?

एनपीसीआई ने फीचर फोन के लिए 123PAY UPI सर्विस शुरू की है, यानी स्मार्टफोन के अलावा अन्य फोन जो केवल कीपैड का उपयोग करके संचालित होते हैं। UPI जैसी कई सुविधाओं का इस्तेमाल स्मार्टफोन पर ही किया जा सकता है, बिना स्मार्टफोन वाले लोग इस सुविधा का इस्तेमाल नहीं कर सकते। रिजर्व बैंक ने इस साल की शुरुआत में यह सेवा शुरू की थी।

123PAY सेवा की मदद से फीचर फोन का उपयोग करने वाले कस्टमर्स डिजिटल लेनदेन कर सकते हैं। इस सर्विस में फोन, मिस्ड कॉल पर इंटरएक्टिव वॉयस रिस्पांस के जरिए वॉयस बेस्ड सिस्टम की मदद ली जा सकती है। UPI पिन 4 से 6 अंकों का कोड होता है। यह कोड तब बनता है, जब आप पहली बार मोबाइल ऐप या आईवीआर पर रजिस्ट्रेशन करते हैं। इस सुविधा से जमीनी स्तर और दूर-दराज के इलाकों में यूपीआई सेवाओं का लाभ उठाया जा सकता है।

Posted By: Kushagra Valuskar

  • Font Size
  • Close