Madhya Pradesh Bhavan:भोपाल (राज्य ब्यूरो)। दिल्ली के चाणक्यपुरी क्षेत्र में मध्य प्रदेश सरकार का सर्वसुविधायुक्त "मध्य प्रदेश भवन" तैयार हो गया है। इसका लोकार्पण मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने राज्य के सभी मंत्रियों, सांसदों और विधायकों की उपस्थिति में किया।

अपने संबोधन में सीएम ने कहा कि नई दिल्ली में नया मध्य प्रदेश भवन केवल भवन नहीं, यहां मध्य प्रदेश की जनता की भावनाएं और आकांक्षाएं हैं। इस भवन से हमें कर्तव्यों के निर्वहन में मदद मिलेगी। जिन मित्रों ने इस भवन के निर्माण में अपना सहयोग दिया है, उनको पुनः बधाई और शुभकामना देता हूं और मध्य प्रदेश की जनता को यह भवन समर्पित करता हूं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुराने भवन में एक-दो कमरे जोड़कर बढ़ाने की कोशिश की गई थी, उसमें जो कक्ष भी थे, उनमें अत्यंत सीमित स्थान था। इस बात की आवश्यकता थी कि काम की दृष्टि से एक नया मध्य प्रदेश भवन बने। यह भवन तैयार है और आज इसका लोकार्पण हुआ है। लोकार्पण कार्यक्रम में मध्य प्रदेश कैबिनेट मंत्री और अधिकारी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश अब बीमारू राज्य नहीं है। इस साल 19.76 प्रतिशत विकास दर है। हमारी जीएसडीपी 12 लाख करोड़ पार कर गई है। देश की जीडीपी में हमारा योगदान 4.3 प्रतिशत है। हम तेजी से आगे बढ़ रहे हैं। यह नया मध्य प्रदेश भवन भी यही दर्शाता है।

सुषमा स्वराज ने दिया था मप्र भवन के लिए भूखंड

मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि मैं सुषमा दीदी (सुषमा स्वराज) को प्रणाम करना चाहूंगा, वो उस समय विदेश मंत्री थीं और यह भूखंड विदेश मंत्रालय के पास था। उनसे जब मैंने आग्रह किया, तो उन्होंने यह भूमि देने में देर नहीं की। मैं वेंकैया नायडू को भी प्रणाम करता हूं। नरेंद्र सिंह तोमर ने भी सहयोग किया। हमारा भवन आने वाले कई वर्षों की आवश्यकता को देखते हुए बनाया गया है। इसके निर्माण के लिए जितने भी लोगों ने सहयोग किया, उनको धन्यवाद देता हूं।

नया भवन आध्यामिक और सृष्टि की संपूर्णता का प्रतीक

मध्य प्रदेश भवन की विशेषता यह है कि इसके पास सारे कार्यालय हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने तय किया था कि इसमें 108 कमरे होना चाहिए। यह आध्यात्मिक परिपूर्णता का प्रतीक और सृष्टि की संपूर्णता का भी प्रतीक है। यह भवन केंद्र और राज्य के सहअस्तित्व की भावना को पूर्ण करेगा।

2018 में भूखंड आवंटित, 30 जनवरी -2023 को हुआ पूरा मप्र भवन

मुख्यमंत्री चौहान के व्यक्तिगत प्रयासों से वर्ष 2017 - 2018 में दिल्ली के जीसस एंड मेरी मार्ग चाणक्यपुरी क्षेत्र में नए मध्य प्रदेश भवन के निर्माण के लिए 1.477 एकड़ भूखंड प्राप्त हुआ था। प्रदेश सरकार और एनबीसीसी द्वारा प्रस्तुत परियोजना की परिकल्पना के लिए 2018 में 149.87 करोड़ रुपये की स्वीकृति प्रदान की गई थी। नवनिर्मित मध्य प्रदेश भवन के निर्माण का कार्यपूर्णता प्रमाण पत्र एवं पूर्णता योजना की स्वीकृति एनडीएमसी द्वारा 30 जनवरी 2023 को जारी की गई है।

नए मप्र भवन में 33 आवासीय फ्लैट, विभिन्न श्रेणी के 108 कक्ष

मध्य प्रदेश भवन में मुख्य रूप से राज्यपाल सूईट, मुख्यमंत्री सूईट, विभिन्न श्रेणी के 108 कक्ष, मल्टीपरपज हाल, कांफ्रेंस हाल, विडियो कांफ्रेंसिंग कक्ष, एग्जीबिशन हाल, आवासीय आयुक्त कार्यालय, किचन एरिया, डाइनिंग हाल, वीआइपी लाउंज के साथ 23 आवासीय फ्लैट की सुविधाएं उपलब्ध है।

150 करोड़ रुपये की लागत से चाणक्यपुरी क्षेत्र में जीसस एंड मेरी मार्ग पर डेढ़ एकड़ में बना यह भवन किसी पांच सितारा होटल से कम नहीं है। छह मंजिला इस भवन में 104 कमरे हैं।

सामान्य प्रशासन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि आगामी 40 साल की आवश्यकता को देखते हुए नया भवन तैयार किया गया है। इसमें 66 डीलक्स, 38 सामान्य के साथ चार वीआइपी कमरे हैं।

मेहमानों को ठहराने के लिए कक्षों में सभी आधुनिक सुविधाएं भी मुहैया कराई गई है। भवन के कांफ्रेंस रूम में एक साथ 45 लोगों के बैठने की व्यव्यस्था है। साथ ही 250 लोगों के बैठने के लिए आडिटोरियम भी बनाया गया है। वीआइपी लाउंज और डाइनिंग रूम में एक साथ 35 लोगों और सामान्य डाइनिंग रूम में 80 लोगों के बैठने की व्यवस्था है।

प्रत्येक तल प्रदेश की अलग संस्कृति को दर्शाता है

नए भवन का प्रत्येक फ्लोर प्रदेश की अलग संस्कृति को दर्शाता है। भवन में बाहर से लेकर अंदर तक हर कदम पर राज्य की धार्मिक, सांस्कृतिक, कला और परंपरा नजर आएगी। इससे भवन में आन वाले दूसरे राज्य के लोग प्रदेश को जान सकेंगे।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

Mp
Mp
 
google News
google News