देवास(नईदुनिया प्रतिनिधि)। देवास जिले के नेमावर में पांच लोगों के जघन्य हत्याकांड के मामले का बुधवार को एसपी डा.शिवदयाल सिंह ने पर्दाफाश किया। आरोपित ने पांचों शवों को दफनाने के बाद प्रेमिका रूपाली का मोबाइल अपने खंडवा निवासी दोस्त को दिया। पुलिस को गुमराह करने के लिए अलग-अलग तारीख को विभिन्न स्थानों से मोबाइल से इंस्टाग्राम पर पोस्ट डाली गई। मामले में पुलिस ने सभी सातों आरोपितों को गिरफ्तार कर साक्ष्य जब्त कर लिए हैं। वहीं मामले को लेकर गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के द्वारा थाने के सामने विरोध प्रदर्शन किया गया।

एसपी डा.शिवदयाल सिंह के मुताबिक 13 मई की रात नेमावर बस स्टैंड के पास रहने वाली ममता बलाई अपनी दो बेटी रूपाली और दिव्या तथा उसकी भतीजी नीतू के पुत्र पवन व पुत्री पूजा सहित अचानक गायब हो गई थी। जिसका सूचना ममता बाई की बेटी भारती के द्वारा पुलिस को दी गई। जिसके बाद 17 मई को गुमशुदगी दर्ज कर मामले में जांच शुरू की गई। जांच के दौरान सभी संदिग्ध लोगों से पूछताछ तथा तकनीकी आधार पर जानकारी लेकर सभी को ढूंढने का प्रयास किया गया। इस बीच 27 मई को नीतू थाने पहुंचे और बेटे पवन और बेटी पूजा के अपहरण की आशंका रूपाली पर जताई। जिसके बाद धारा 363 में प्रकरण दर्ज कर मामले की विवेचना की गई।

पुलिस टीम का गठन कर होशंगाबाद, हरदा, खंडवा, चोरल, भोपाल, सिहोर तथा इंदौर के कई स्थानों पर सर्चिंग की गई। इस दौरान मुखबिर की सूचना पर संदेही सुरेंद्र राजपूत से कड़ाई से पूछताछ की गई तो वह टूट गया और उसने पुलिस को बताया कि रूपाली उसकी प्रेमिका थी। रूपाली के द्वारा मंगेतर दिव्यांशी के विरूद्ध इंटाग्राम पर गलत पोस्ट करने तथा शादी के लिए दबाव डालने से क्षुब्ध होकर सुरेंद्र ने भाई वीरेंद्र राजपूत तथा विवेक तिवारी, राजकुमार, मनोज कोरकू, करण कोरकू के साथ मिलकर रूपाली और उसके स्वजनों की हत्या कर शवों को अपने खेत के किनारे बने 12 फीट के गड्ढे में दबा दिया तथा रूपाली का मोबाइल खंडवा में रहने वाले साथी राकेश निमौरे को देकर विभिन्न दिनांकों में अलग-अलग जगह से इंस्टाग्राम पर पोस्ट डालकर पुलिस को भ्रमित करने का प्रयास किया।

घटना में शामिल सभी सातों आरोपित सुरेंद्र राजपूत, वीरेंद्र राजपूत, विवेक तिवारी, राजकुमार, मनोज कोरकू, करण कोरकू तथा राकेश निमौरे को गिरफ्तार कर लिया गया है। एसपी ने आरोपितों को गिरफ्तार करने में शामिल पुलिस टीम को पुरस्कृत करने की घोषणा की है।

Posted By: Prashant Pandey

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close